रविवार, सितंबर 12, 2010

एक सरप्राइज-पापा को

यदि संस्कार अच्छे हों तो बच्चे भी अच्छे होते हैं |इस बार कुछ ऐसा ही किया बच्चों ने बहु -बेटों ने बहाने बना कर हम दोनों को  अपने पास हिमाचल बुला लिया |तिथि थी 08 -09 -10 हम दोनों से बड़ी मनुहार की कि जरा अच्छे वस्त्र पहनलें , सभी लोगों को मंदिर चलना है |
सभी तैयार हो गये हमसे बोले -जरा दो मिनट सोफे पर बैठें इतने में बहु ने एक बड़ा सा केक लाकर टेबिल पर रख दिया और जोर -जोर से चिल्लाने लगे -हेप्पी बर्डे टू पापाजी -हेप्पी बर्डे टू पापाजी हम पति -पत्नी अचंभित रह गए
इतने में हमारी छोटी सी नतिनी ने केक काटकर हमारी सहायता की  | फिर सभी लोग मंदिर की ओर चढ़ चले |
विश्वविद्यालय के केम्पस में अद्भुत मंदिर बना हुआ है | ईश्वर के दर्शन कर हमें घुमाने के बहाने शिमला की ओर ले चले फिर गाड़ी को निर्जन पहाड़ी की ओर मोड़ दिया थोड़ी देर चलने के बाद एक पहाड़ी पर रोक दिया पता चला
यह "होटल आमोद " है हमने कहा की तुमतो घर पर ही अच्छे व्यंजन बनाने वाले थे ,क्या हुआउस सबका सब बच्चे मिलकर बोले -हमारा सरप्राइज कैसा लगा ? तब अचानक ये दो छक्के -बन गए ---------
                                  आज सुबह से आ  रहे , नए- नए इमेल
                                  खाना पीना और तो , नींद  हो गई फेल |
                                  नींद हो गई फेल ,अलग फुनवा  गुर्रावे ,
                                  कितने  के हो गए, शरदजी सच बतलावें |
                                  भांति- भांति के प्रश्न  मित्रगण पूंछ रहे हें ,
                                  दावत-फावत छोड़ ,हिमाचल घूम रहें हें |     

                                  बच्चों संग मना  रहे   , बर्डे कवी   राकेश  ,
                                  पहुँच हिमाचल वे गए ,छोड़ा प्रश्न -प्रदेश |
                                  छोड़ा  प्रश्न  प्रदेश ,    यहाँ   केवल उत्तर हें ,
                                  हम दोनों  के संग यहाँ ,बहू और पुत्तर हें |
                                  हेप्पी  - बर्डे   आशू ,   चारू    शोर   माचैया  ,
                                  गुडिया -चिड़िया सब मिल नाचें ताता-थैया  | 
                                
                                 

4 टिप्‍पणियां:

  1. Papa-mummy ke aane per, mazza aa gaya,
    Chiriya-Guriya-Ashu-Charu, unne bha gaya.
    Unne bha gaya sath hum chilla kar bole,
    Happy Birday to you Papa mann ye dolle.
    Kahe Nitin Kavirai, diya aakhoo mei zohokha,
    Bana diya surprise de diya unnko dhoka.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़ा जोरदार बर्थडे मनाया कवि जी आपने तो
    क्या इत्ता बड़ा केक आप अकेले ही खा गए थे ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. few line i remember

    pyar to zindage ka afsana hai
    pyar ka apno par hi lutana hai
    pata nahi mile ga kya zindage se
    par zindge ko haste je te jana hai

    sahe kaha kavi raj :)

    उत्तर देंहटाएं